Ab life ke aur kareeb

बया का घोंसला

आशियाना बनाने की बात करें तो, मनुष्य के बाद शाायद बया ही ऐसा प्राणी होगा, जो इतनी मेहनत और कल्पनाशीलता से काम लेता है. आप बया से कुछ सीखें न सीखें, पर बया और बंदर की कहानी याद करते हुए कम से कम यह तो सीख ही सकते हैं कि किसी अपात्र को बिना मांगे दी गई सलाह, सलाह देने वाले को कितनी महंगी पड़ सकती है.

Comments are closed.